Recharge your relationship | अपने रिश्ते को रिचार्ज करें

How to put god in your relationship, What does it mean to put God first in a relationship, How to recharge your relationship, Recharge your relationship.

Recharge your relationship | अपने रिश्ते को रिचार्ज करें

नमस्कार दोस्तों आज हम आपको अपने इस आर्टिकल के माध्यम से बताना चाहते है की हम अपने जीवन के सभी रिस्तो को कैसे सुरक्षित रख सकते है Recharge your relationship तो चलिए जानते है.

Introduction : Recharge your relationship

दोस्तों अगर देखा जाए तो रिश्ते बहुत ही अनमोल होते है और हमें उन्हें संजोए रखना चाहिए जरासी गलतफैमी की वजहसे रिस्तो में दरार आती है. किसी भी रिश्ते की मधुरता को बरक़रार रखने के लिए कुछ अतिरिक्त प्रयासों की जरूरत होती है Recharge your relationship.

जैसे की हम अपनों से सम्पर्क बनाए रखने के लिए मोबाइल में रिचार्ज करवाना नहीं भूलते उसी तरह रिस्तो का भी ख्याल रखना जरुरी है. परिवार के सदस्य, रिस्तेदार, पडोसी, दोस्त, परिचित और कलीग्स नाम चाहे जो भी हो पर हमारी जिंदगी को इंद्रधनुष की तरह सजाने के हर रिश्ते की भूमिका कुछ अलग ही होती है.

फिर भी कई बार ऐसा होता है की हम इसकी अहमियत को पहचान नहीं पाते और इसी के कारण रिश्ते में दुरी बढ़ना सुरु होता है. कई बार लोग किसी छोटी सी गलतफैमी की वजहसे अपनों से नाराज होकर उनके साथ बातचीत करना बंद कर देते है. किसी भी रिश्ते को तोडना आसान होता है लेकिन उसी रिश्ते को बनाने के लिए धैर्य और मेहनत की जरुरत होती है.

How to keep the relationship happy : Recharge your relationship

अपने रिश्ते को हमेशा खुशनुमा बनाए रखने के लिए मोबाईल की तरह समय – समय पर उन्हें भी रिचार्ज करना बहुत जरुरी होता है. दोस्तों आज हम आपको अपने इस आर्टिकल के माध्यम से यही समजाना चाहते है की आप अपने रिश्तो को संजोकर कैसे रखेंगे.

यही जानकारी समजाने के लिए आज हम आपको कुछ अगल टॉपिक बताएंगे जिस से आप जल्दी ही अपने रिस्तो को सम्हालना सिख जावोगे Recharge your relationship तो आइए देखते है.

  • कम न हो टॉकटाइम
  • मेमरी कार्ड हमेशा एक्टिव रहे
  • मैसेजिंग सही हो
  • हमेशा नेटवर्क मजबूद रखे
  • शेयरिंग इज केयरिंग
  • डाऊनलोड करे अच्छाई
  • डूयल सिम के फायदे
  • प्रीपेड है सुरक्षित
  • बैटरी रहे सुक्षिक

दोस्तों इन सभी टॉपिक के जरिए आज हम आपको रिश्तो को संभालकर कर रखने का तरीका समजाएगे आशा करते है दोस्तों की आपको हमारा ये आर्टिकल पसंद आए और जो जानकारी हम इस आर्टिकल के माध्यम से दे वो सभी जानकारी आपको समज में आए तो चलिए दोस्तों जानते है.

Recharge your relationship :

कम न हो टॉकटाइम : दोस्तों यह बात को सही है की हम अपने जीवन में बहुत ज्यादा वेस्त होते जा रहे है. ऐसे में लोगो से तो क्या अपने ही परिवार के लोगो से बातचीत करने का समय नहीं मिलता ऐसे संवादहीनता का रिश्तो और वेक्ति के दिमागी सेहत पर बहुत ही बुरा असर पड़ता है. अकेलेपन के वजहसे वेक्ति ड्रिप्रेशन, स्ट्रेस और एन्जायटी जैसी गंभीर मनोवैद्यानिक समस्याओ का शिकार होता है.

लेकिन दोस्तों इन सभ परेशानी से बचा जा सकता है अगर आप अपने वेस्त समय में से थोड़ा समय अपने परिवार के साथ या फिर अपने परिचित लोगो के साथ बातचीत करने का समय निकाले तो आपको कभी अकेलापण महसूस नहीं होंगा और आप मनोवैद्यानिक समस्याओ से दूर रहेंगे.

मेमरी कार्ड हमेशा एक्टिव रहे : वैसे तो आजकल फेसबूक आपको सभी खास अवसरों की याद दिलाता है. फिर भी कुछ लोग जन्मदिन, शादी की सालगिरहा और त्यौहार जैसे खास अवसरोंपर अपनों को बधाई देना भूल जाते है. ऐसा भी हो सकता है की किसी करीब व्येक्ति के साथ इतना अच्छा हो की बधाई न देने पर भी आपसे कोई भी शिकायत न करे फिर जब हम उसको सुभकामनाए देते है तो उनको बहुत अच्छा लगता है.

इसलिए दोस्तों अपने दिमाक की मेमरी डाटा को हमेशा एक्टिव रखे, अगर हम किसी काम में वेस्त हो और कोई खास दिन भूल जाए तो अपने मोबाइल में रिमाइंडर लगा कर रखे जिस से आपको उस खास दिन की याद आपका मोबाइल दिला सके इस से दोस्तों आप काम में वेस्त होने के बाद भी उस खास दिन की बधाई अपनों को दे सकते हो जिस के कारण आप हमेशा अपनों से जुड़े रहेंगे.

यह भी पढ़े :

मैसेजिंग सही हो : हम मोबाइल फ़ोन के जरिए वही मेसेज जाता है जो हम कहना चाहते है. लेकिन सामाजिक जीवन में हर बार ऐसा नहीं होता कई बार ऐसा भी होता है वेक्ति के हाव भाव बॉडी लेंग्वेज या किसी गलतफैमी की वजहसे सामने वाले तक नकारत्मक सन्देश चला जाता है जिस से बेवजहा संबंद ख़राब हो जाते है.

इसलिए बिना सोचे समजे कुछ भी बोलने की आदत से बचे प्रोपेशनल लाइफ में बातचीत के दौरान शब्तों के चरण में सतर्कता बरते इस से अर्थ का अनर्थ हो सकता है. अगर कभी भूल से आपके मुँह से गलत शब्द निकल जाए तो सॉरी बोलकर उसे उसी वक्त सुधराले, दोस्तों ऐसा करने से रिश्तो में मन मुटाव नहीं आता और रिश्तो में दूरिया नहीं बढ़ती.

हमेशा नेटवर्क मजबूद रखे : जिस तरह अपनों से या फिर दोस्तों से बात करने के लिए मोबाइल का नेटवर्क जरुरी है उसी तरह जिंदगी की खुशाली के लिए सामाजिक संभंदो का नेटवर्क भी मजबूत होना चाहिए. कुछ रिश्ते हमें जन्म के साथ उपहार के स्वरुप में मिलते है जिसमे माता – पिता, भाई – बहन और करीबी रिस्तेदार भी शामिल होते है.

इसके आलावा अन्य सामाजिक संभंधो को वेक्ति अपने प्रयास से अर्जित करते है. ऐसे रिश्ते हमेशा वेक्ति के लिए मदतगार होते है, इस लिए हमे अपने बच्चो की परवरिश ढंग से करनी चाहिए ताकि उनमे अच्छी बाते डेवलप हो और वे अच्छे दोस्त बनाना दुसरो की मदत करना या फिर अजनबियों से बेझिजक बाते करना शिख जाए.

दोस्तों इसी तरह हर वेक्ति को अपने रिस्तो का नेटवर्क मजबूत रखना चाहिए जिस से रिश्तो में कोई मन-मुटाव न रहे दोस्तों रिश्तो को नेटवर्क मजबूत रखे और रिश्तो का दायरा बढ़ाने की कोशिश करे.

यह भी पढ़े :

शेयरिंग इज केयरिंग : दोस्तों आपको तो यह पता ही होंगा की एंड्रॉइड मोबाइल में शेयरइट का यूज़ सबसे ज्यादा होता है वैसे ही युवाओ के बिच शेयरइट बहुत पापुलर है. दोस्तों इस के जरिए हम अपने दोस्तों के साथ फिल्मे और वीडियो शेयर करते है. जिस तरह आप डिजिटल वल्ड में शेयरिंग पसंद करते है.

आपकी उदारता निजी जीवन में भी नजर आनी चाहिए हमेशा दुसरो की मदत के लिए तैयार रहे अपनों के साथ दिल की बाते शेयर करे, अगर कोई परिचित वेक्ति आपसे कुछ कहना चाहता है तो थोड़ा वक्त उनके लिए निकालकर उसकी बाते जरूर सुने हो सकता है की आपके दो मीठे बोल उसे उसकी समस्या से निकाल देने का रास्ता बता दे और वो टेंशन का शिकार होने से बचे.

दोस्तों इस तरह आप अपने परिवार के लिए और अपने परिचित वेक्ति के लिए अगर थोड़ा भी समय निकालते हो तो आपका जीनव हमेशा सुखमय ही गुजरेगा और आपके रिश्तो में कोई रुकावटे नहीं आएगी.

यह भी पढ़े :

डाऊनलोड करे अच्छाई : दोस्तों देखा जाए तो आजकल की पीढ़ी बहुत आगे बढ़ चुकी है क्यू की हम धीरे – धीरे डिजिटल होते जा रहे है और नेटवर्क बड़ा होता जा रहा है. दोस्तों आपने FaceBook और WhatsUpp के बारे में तो सुना ही होंगा 99.00% लोग इसका यूज़ करते है दोस्तों इसका यूज़ करना तो गलत नहीं है पर हमें FaceBook और WhatsUpp से कुछ अच्छा भी सीखने को मिलता है और कुछ बुरा भी सीखने मिलता है लेकिन दोस्तों अब हमें ये निच्छित करना है की हमें अच्छी बाते शिकना है की बुरी बाते शिकना है.

दोस्तों अगर यही बात को गौर से देखा और समजा जाए तो इंटरनेट और रियल लाइफ में भी काफी समानता है. जिस तरह इंटरनेट के माध्यम से हम अपनी सूचि से जुडी हर तरह की जानकारियाँ डाऊनलोड करते है उसी तरह असली जिंदगी में भी हमारे आस पास कई ऐसे लोग मौजूद है की जिनसे हम बहुत कुछ शिख सकते है.

इसलिए दोस्तों कुशल और अनुभवी लोगो को अपना रोल मॉडल मानते हुए हमें भी उनसे कुछ अच्छी बाते सिखने की कोशिश करनी चाहिए मिसाल के तौर पर आपने किसी दोस्त को देखकर यह निश्चय कर लिया की मै भी उसी की तरह रोज मॉर्निंग वॉक और एक्सरसाइज करूँगा / करुँगी तो इस से न केवल सेहत संभंधित परेशानी दूर होंगी बल्कि इसी बहाने आपकी नए दोस्त बनाने का भी अवसर मिलेंगा फिर आप उन्हें भी अपनी ही तरह अच्छी आदते अपनाने के लिए प्रेरित कर सकते है.

दोस्तों इसी तरह आप अपने जीवन में अगर अच्छी आदते डाऊनलोड करते है तो आपका जीवन हमेशा शांत से गुजरेंगा और आप हमेशा खुश रहोंगे.

यह भी पढ़े :

डूयल सिम के फायदे : जिस तरह मोबाइल में डुयल सिम का इस्तमाल हमारे लिए फायदेमंद शाबित होता है, उसी तरह अपनी जिंदगी में भी हर रिश्ते के मांग और जरूरते अलग होती है, ऐसे में ज्यादा तालमेल से परेशानिया बढ़ सकती है.

हलाकि वेव्हारिक रूप से निजी और प्रोपेशनल जीवन को एक दुसरे को पूरी तरह अलग करना असंभव है फिर भी कोशिस यही होनी चाहिए की कार्य स्थल पर निजी जीवन के बारे में ज्यादा बातचीत न की जाए और घर पर भी ऑफिस की परेशानियाँ की अनावश्यक चर्चा न हो.

अपने रिश्ते को रिचार्ज करें

प्रीपेड है सुरक्षित : मोबिलेके तरह हमे अपनी सामाजिक संबंधो की भी कुछ कीमत चुकानी पड़ती है. वैसे तो यह वेक्ति की इच्छा और जरूरतों पर निर्भर है की वह प्रीपेड और पोस्पेड में से किस प्लान का चुनाव करता है. फिर भी प्रीपेड की ज्यादा सुरक्षित माना जाता है क्योकि इसमें वेक्ति अपने वजह को ध्यान में रखते हुए टॉक टाइम का रिचार्ज करवाना है.

इसी तरह सामाजिक संबंधो के मामले में भी अगर वेक्ति पहले से ही यह तय कर ले की उसे किस रिस्तेदार या परिचित को कितना समय देना चाहिए, उपहार आदि के लेन- देन में खर्च की सिमा क्या होंगी तो इससे वह तनाव मुक्त रहेंगा और इसके रिश्ते में भी मधुरता बनी रहेंगी. ऐसी स्थिथि में भावनाओ पर नियंत्रण बहुत जरुरी है अन्यथा अपनी क्षमता से अधिक समय या पैसे खर्च करें के बाद व्यक्ति अपने दोस्तों या रिश्तेदारों से भी ऐसी ही मुम्मिद रखता है.

अगर किसी वजहसे दूसरा वेक्ति अपने दोस्तों या रिश्तेदारों से भी ऐसी ही उम्मीद रखता है. अगर किसी वजह से दूसरा वेक्ति ऐसा नहीं कर पाता तो उसे निराशा होती है और अत्त्यंत आपसी रिश्ते में भी कड़वाहट आ सकती है. वेक्ति के लिए यह समज़ना बहुत जरुरी है की वह की हद तक दुसरो की मदत करने में समर्थ होंगा, अगर पारिवारिक और सामाजिक जीवन में इन बातो का ध्यान रखा जाए तो रिश्तो में मधुरता बनी रहेंगी.

यह भी पढ़े :

बैटरी रहे सुक्षिक : जिस तरह बैटरी या पावर बैंक के बिना मोबाइल काम करना असंभव है उसी तरह रिश्तो को रिचार्ज करने से पहिले अपनी ऊर्जा को भी सुरक्षित रखना बहुत जरुरी है. इसके लिए दोस्तों हमें इन सब बातो को ध्यान में रखकर चलना होंगा जिस के कारण हम अपने रिश्ते को सुरक्षित रख सकते है.

  • अपनी सेहत फिटनेस और दिमागी सकुन की अहमियत को समजे क्योकि की इसके बिना आप दुसरो की मदत नहीं कर पाएंगे.
  • दोस्तों किसी से ऐसी बात नहीं करना चाहिए जिसे हम पूरा नहीं कर सकते है.
  • हमेशा अपनी खुशियों की कुर्बानी न दे, थोड़ा सा वक्त अपने लिए भी दे परिवार में बच्चो के बिच हम इतना बिजी हो जाते है के हम अपने लिए समय ही नहीं दे पाते हमें अपने लिए भी समय निकलना जरुरी है.
  • अगर कभी किसी परिशानी की वजहसे दुसरो की मदत न कर पाए तो उसके लिए अपने मन में कोई बाद न रखे.

तो देखा दोस्तों इस तरह आप अपने रिश्ते का रिचार्ज कर सकते है और अपनों के साथ जुड़े रहकर अपने रिश्ते को बरक़रार रख सकते है. दोस्तों अगर आपको हमारे द्वारा दी गयी जानकारी अच्छी लगी हो तो हमारे इस आर्टिकल को शेयर करना न भूले. अगर आपके निजी जीवन में कोई भी परेशानी हो तो हमें कमेंट कर के जरूर बताए हम आपकी पूरी मदत करने के कोशिश करेंगे.

धन्यवाद……….

यह भी पढ़े :

Leave a Reply

https://www.videosprofitnetwork.com/watch.xml?key=bbfecdcc01b94dfff0b88620d1e44491
error: Content is protected !!